रिसेप्शनिस्ट नैना की चुदाई

प्रेषक : रॉकी

हेल्लो दोस्तो, मेरा नाम रॉकी है। मैंने अन्तर्वासना पर हजारों कहानियाँ पढ़ी हैं। यह मेरी पहली और सच्ची कहानी है।

मैं वड़ोदरा (गुजरात) के सरकारी विभाग में एक अच्छे पद नौकरी करता हूँ। मैं छः फुट लम्बा और कसरती बदन का मालिक हूँ। मैं सिख परिवार से हूँ तो लड़कियाँ मुझे देखते ही फ़िदा हो जाती हैं। एक बार मेरा लैंड लाइन बी.एस.एन.एल. फोन में कुछ प्रॉब्लम आ गई। मैंने अपने नौकर से कहा कि कल वो फोन बी.एस.एन.एल. के कार्यालय ले जाकर इसे बदल लाये।

लेकिन सुबह उसे आकास्मिक छुट्टी जाना था। इसलिए ऑफिस जाने से पहले फोन लेकर मैं खुद ही निकल गया। मैं अपनी गाड़ी से उतरा और फोन लेकर सीधा रिसेप्शनिस्ट के पास गया।

सॉरी दोस्तो, उसे रिसेप्शनिस्ट कहना गलत होगा क्योंकि वो तो किसी पोर्न स्टार से कम नहीं थी, इतना क्यूट चेहरा, इतनी प्यारी हँसी मैंने आज तक नहीं देखी थी।

वो अपने मोबाइल पर किसी से बात कर रही थी। जैसे ही मैं उसके पास गया तो वो फोन रख कर खड़ी हो गई। अब मैं उसका पूरा शरीर देख रहा था। क्या चूचे थे उसके ! मन कर रहा था कि जैसे चूम लो इन जालिम चूचों को जिन्होंने मेरा पहली नज़र मैं ही कत्ल कर दिया था।

मेरा रोम रोम खड़ा हो गया और लंड का तो हाल क्या बताऊँ, लग रहा था कि अभी पैंट से बाहर निकल आएगा।

मैं आप लोगों को बताना भूल गया कि जब भी मैं ऑफिस जाता हूँ तो फोर्मल पैंट ही पहन के जाता हूँ इसलिए उसकी नज़र मेरी पैंट के उभरे हुए हिस्से पर जा रुकी। उसने एक प्यारी सी स्माइल के साथ कहा- बैठ जाईये, मैं आपकी क्या मदद कर सकती हूँ?

लेकिन मुझे उस समय कुछ होश ही नहीं थी, मैं कभी उसकी जांघों की तरफ देख रहा था तो कभी उसके चूचों को।

उसने मुझे फिर से कहा- कि बैठ जैए, मेरा नाम नैना है मैं आपकी क्या मदद कर सकती हूँ?

तब जाकर मुझे कहीं होश आया।

34-30-36 के करीब शरीर और पाँच फुट चार इंच के करीब उसकी लम्बाई थी। मैं एकदम चौंक कर जल्दी में बोला- मेरा नाम रॉकी है, आप बहुत खूबसूरत हैं, मेरा फोन खराब हो गया है, मुझे इसे रिपेयर करवाना है। मैं तुम्हें पहली नज़र में ही अपना दिल दे बैठा हूँ, मुझे मेरा फोन कब तक मिल जायेगा, मैं तुम्हें चाहने लगा हूँ।

वो एकदम से बोली- यह आप क्या कह रहे हो?

मैं थोड़ा घबराते हुए बोला- मुझे माफ़ कर दो, मुझे नहीं पता कि मैंने आपको क्या बोला है, पर इतना बोलना चाहता हूँ कि आप बेहद सुन्दर हैं और मैं आपको प्यार करने लगा हूँ।

नैना मुझे आँख मारते हुये बोली- प्यार करने लगे हो या मुझे चोदना चाहते हो????

मैं एक पल के लिये कुछ नहीं बोला, फिर मैं हंसते हुये बोला- प्यार करते हुये चोदना चाहता हूँ।

नैना ने कहा- 500 रुपये एक घंटे के और पूरी रात के 1500 रुपये।

मैंने हंसते हुये कहा- 3000 रुपये एक रात के।

नैना खुश हो गई, उसने मेरा मोबाइल ‌नंबर लिया और मुझे कहा- रात को 8 बजे काल करती हूँ।

वहाँ से मैं अपने ऑफिस निकल गया। ऑफिस से घर जाते हुए मैंने कॉन्डम का एक बड़ा पैकिट ले लिया।

रात को ठीक 8 बजे नैना ने फोन किया और कहा कि वो बस स्टैंड पर है मुझे पिक कर लो।

मैंने तुरंत अपनी गाड़ी निकाली और उसे लेने चला गया।

उसने काले रंग की टी-शर्ट और हल्की नीली जींस पहन रखी थी। मैंने एक जेंटलमेन की तरह अपनी गाड़ी की खिड़की खोली और कहा- नैना जी प्लीज़ !

उसने एक प्यारी सी स्माइल दी और कहा- थैंक्यू !

मैंने रास्ते से कुछ स्नेक्स, डिनर और कोल्डड्रिंक पैक करवा ली। रास्ते मैं मैंने एक दो बार गेयर लगाते हुए उसकी मोटी मोटी जांघ को छू लिया था। मेरा लंड एकदम से अकड़ चुका था, खैर किसी तरह मैंने अपने ऊपर कंट्रोल रखा।

15 मिनट के बाद हम लोग घर आ गये। मैंने गाड़ी से पैक करवाया हुआ सामान उठाया और हम दोनों मेरे घर में आ गये।

मैंने दरवाजा अंदर से लॉक किया और नैना को बाहों में भर लिया।

नैना हंसते हुए बोली- आराम से प्यार का मज़ा लो ! पूरी रात बाकी है।

लेकिन मैं कहाँ रूकने वाला था, मैंने कहा- प्यार से मज़ा लेने के लिए पूरी रात है। लेकिन अभी मुझे अपने तरीके से चोदने दो।

मैंने उसे अपने दोनों हाथों में उठाया और सीधे अपने बेडरूम में ले गया।

उसने मुझे किस करना शुरु कर दिया, मेरे लिप्स को वो बुरी तरह से किस करने लगी। मैं भी जोश में आ गया और उसको किस करने लगा और उसको अपनी बाहों में दबाने लगा।

मैंने उसको खींच कर बेड पर लिटा दिया और मैं उसके ऊपर आ गया और उसको चूमना शुरु कर दिया। दस मिनट तक मैं उसको चूमता रहा। फिर मैंने उसकी टी-शर्ट खोल दी। उसके बाद मैंने उसकी ब्रा भी खोल दी। जैसे ही मैंने ब्रा खोली तो उसके दूध उछल कर बाहर आ गये, मैं उन्हें देखकर दबाने लगा।

फिर मैंने उसकी निप्पल को मुंह में लिया और चूसने लगा।

वो आ आआह्ह ह्हा आ आआह हाह्हह कर रही थी। मैं उसे चूसता ही रहा। थोड़ी देर बाद मैंने उसकी जींस खोल कर उसको पैंटी में ला दिया।

उसकी चूत बहुत गरम हो गई थी, उसकी पैंटी गीली हो चुकी थी। मैं पैंटी को निकाल कर उसकी चूत को फैला कर चाटने लगा।

वो सिसकारियाँ भर रही थी- अहा आआ अस्शहस आआ आअह्ह्हस्स स्सशाआ आआहह्हस्स अह्हह ह्ह हस्साआ आअह्ह ह्हहा हह्हाआ ह्हह्हह !

वो मेरे लंड को हाथ में लेकर खींच रही थी और कस कर दबा रही थी। फिर नैना ने कमर को ऊपर उठा लिया और मेरे तने हुए लंड को अपनी जांघों के बीच लेकर रगड़ने लगी। वो मेरी तरफ़ करवट लेकर लेट गई ताकि मेरे लंड को ठीक तरह से पकड़ सके। उसकी चूची मेरे मुंह के बिल्कुल पास थी और मैं उन्हें कस कस कर दबा रहा था।

अचानक उसने अपनी एक चूची मेरे मुंह मे ठेलते हुए कहा- चूसो इनको मुंह में लेकर।

मैंने उसकी बाईं चूची को मुँह में भर लिया और जोर जोर से चूसने लगा। थोड़ी देर के लिये मैंने उसकी चूची को मुंह से निकाला और बोला- मैं पूरे दिन तुम्हारी चूचियों के बारे में सोचते हुए 8 बजने का इंतज़ार कर रहा था । इनको मसलने की बहुत इच्छा हो रही थी। जब मैं सुबह तुमसे मिला था तो मेरा दिल कर रहा था कि इन्हें वहीं मुंह में लेकर चूसूं और इनका रस पीऊँ। तुम नहीं जानती नैना कि तुमने मुझे और मेरे लंड को सुबह से परेशान कर रखा है।

“अच्छा तो आज अपनी तमन्ना पूरी कर लो, जी भर कर दबाओ, चूसो और मज़े लो, मैं तो आज पूरी रात तुम्हारी हूँ ! जैसा चाहे वैसा ही करो।”

फिर क्या था, मेरी जीभ उसके कड़े निप्पल को महसूस कर रही थी। मैंने अपनी जीभ नैना के उठे हुए कड़े निप्पल पर घुमाई। मैं दोनों अनारों को कस के पकड़े हुए था और बारी बारी से उन्हें चूस रहा था। मैं ऐसे कस कर चूचियों को दबा रहा था जैसे कि उनका पूरा का पूरा रस निचोड़ लूंगा।

नैना भी मेरा पूरा साथ दे रही थी, उसके मुंह से ओह ! ओह ! अह ! सी सी ! की आवाज निकल रही थी, मुझसे पूरी तरह से सटे हुए वो मेरे लंड को बुरी तरह से मसल रही थी और मरोड़ रही थी।

उसने अपनी बाईं टांग को मेरे कंधे के ऊपर चढ़ा दिया और मेरे लंड को अपनी जांघों के बीच रख लिया। मुझे उसकी जांघों के बीच एक मुलायम रेशमी एहसास हुआ। यह उसकी चूत थी। नैना ने पैंटी नहीं पहन रखी थी और मेरे लंड का सुपाड़ा उसकी झांटों में घूम रहा था। मेरा सब्र का बांध टूट रहा था, मैं नैना से बोला- नैना, मुझे कुछ हो रहा है, और मैं अपने आपे में नहीं हूँ, प्लीज मुझे बताओ कि मैं क्या करूं?

नैना बोली- करो क्या, मुझे चोदो, फाड़ डालो मेरी चूत को।

पर मैं चुपचाप उसके चेहरे को देखते हुए चूची मसलता रहा।

उसने अपना मुंह मेरे मुंह से बिल्कुल सटा दिया और फुसफुसा कर बोली- अपनी नैना को चोदो !

नैना हाथ से लंड को निशाने पर लगा कर रास्ता दिखा रही थी और रास्ता मिलते ही मेरा लंड एक ही धक्के में सुपाड़ा अंदर चला गया। इससे पहले कि नैना सम्भले या आसन बदले, मैंने दूसरा धक्का लगाया और पूरा का पूरा लंड मक्खन जैसी चूत की जन्नत में दाखिल हो गया।

नैना चिल्लाई- उई ईइ ईईइ माआआ हुहुह्हह ओह रॉकी ! ऐसे ही कुछ देर हिलना डुलना नहीं, हाय ! बड़ा जालिम है तुम्हारा लंड। मार ही डाला मुझे तुमने मेरे राजा।

नैना को काफ़ी दर्द हो रहा था, पहली बार जो इतना मोटा और लम्बा लंड उसकी बुर में घुसा था।

मैं अपना लंड उसकी चूत में घुसा कर चुपचाप पड़ा था। नैना की चूत फड़क रही थी और अंदर ही अंदर मेरे लौड़े को मसल रही थी। उसकी उठी उठी चूचियाँ काफ़ी तेज़ी से ऊपर नीचे हो रही थी। मैंने हाथ बढ़ा कर दोनों चूचियों को पकड़ लिया और मुंह में लेकर चूसने लगा। नैना को कुछ राहत मिली और उसने कमर हिलानी शुरु कर दी।

फिर नैना बोली- अब लंड को बाहर निकालो !

लेकिन मैं लंड धीरे धीरे नैना की चूत में अंदर-बाहर करने लगा। फिर नैना ने स्पीड बढ़ाने को कहा। मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और तेज़ी से लंड अंदर-बाहर करने लगा। नैना को पूरी मस्ती आ रही थी और वो नीचे से कमर उठा उठा कर हर शॉट का जवाब देने लगी। रसीली चूची मेरी छाती पर रगड़ते हुए उसने गुलाबी होंठ मेरे होंठ पर रख दिये और मेरे मुंह में जीभ ठेल दिया।

चूत में मेरा लंड समाये हुए तेज़ी से ऊपर नीचे हो रहा था। मुझे लग रहा था कि मैं जन्नत पहुँच गया हूं। जैसे जैसे वो झड़ने के करीब आ रही थी उसकी रफ़्तार बढ़ती जा रही थी। कमरे में फच फच की आवाज गूंज रही थी।

मैं नैना के ऊपर लेट कर दनादन शॉट लगाने लगा। नैना ने अपनी टांग को मेरी कमर पर रख कर मुझे जकड़ लिया और जोर जोर से चूतड़ उठा उठा कर चुदाई में साथ देने लगी।

मैं भी अब नैना की चूची को मसलते हुए ठका-ठक शॉट लगा रहा था। कमरा हमारी चुदाई की आवाज से भरा पड़ा था। नैना अपनी कमर हिला कर चूतड़ उठा उठा कर चुदा रही थी और बोले जा रही थी- अहह आअह उनह ऊओह् ऊऊह् हाआआन हाआऐ माआआअर गयययययये रीईए, लल्लल्लल्ला चूऊओद रे चूऊओद उईई मीईईरीईइ माआअ, फाआआअत गाआआईई रीईई शुरु करो, चोदो मुझे। लेलो मज़ा जवानी का मेरे राज्जज्जा।

और अपनी गांड हिलाने लगी। मैंने लगातर 30 मिनट तक उसे चोदा।

मैं भी बोल रहा था- लीईए मेरीईइ रानीई, लीई लीईए मेरा लौड़ा अपनीईइ ओखलीईए मीईए। बड़ाआअ तड़पयया है तूनीई मुझीई। लीईए लीई, लीई मेरीईइ नैना ये लंड अब्बब्बब तेराआ हीई है। अह्ह! उह्हह्ह क्या जन्नत का मज़ाआअ सिखयाआअ तुनीईए। मैं तो तेरीईइ गुलाम हूऊऊ गईए।

नैना गांड उछाल उछाल कर मेरा लंड चूत में ले रही थी और मैं भी पूरे जोश के साथ उसकी चूचियों को मसल मसल कर अपनी नैना को चोदे जा रहा था।

नैना मुझको ललकार कर कहती- लगाओ शॉट !

और मैं जवाब देता- ये ले मेरी रानी, ले ले अपनी चूत में।

“जरा और जोर से सरकाओ अपना लंड मेरी चूत में मेरे रॉकी !”

“ये ले मेरी नैना रानी, ये लंड तो तेरे लिये ही है।”

“देखो रॉकी, मेरी चूत तो तेरे लंड की दिवानी हो गई ! और जोर से आआईईए मेरे राजा। मैं गईईईए रीई !” कहते हुए मेरी नैना ने मुझको कस कर अपनी बाहों में जकड़ लिया और उसकी चूत ने ज्वालामुखी का लावा छोड़ दिया।

अब तक मेरा भी लंड पानी छोड़ने वाला था, मैं बोला- मैं भी अयाआआ मेरी जाआअन !

और मैंने भी अपने लंड का पानी छोड़ दिया और मैं हांफ़ते हुए उसकी चूची पर सिर रख कर कस के चिपक कर लेट गया। हम दोनों 10 मिनट इसी तरह लेटे रहे। फिर हम दोनों एक साथ नहाने गये। फ्रेश होने के बाद हम ने डिनर किया।

रात को मैंने अन्तर्वासना स्टाइल में उसकी कुंवारी गांड मारी और पूरी रात उसे छ बार चोदा।

आपको मेरी कहानी कैसी लगी प्लीज मुझे मेल कर के बताओ।

हजारों कहानियाँ हैं अन्तर्वासना डॉट कॉम पर !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>